1

अपमान का बदला : tenali raman story in hindi

tenali raman story in hindi बात उन दिनों की है जब तेनालीराम का विजय नगर के राजदरबार से कोई लेना-देना नहीं था । उन दिनों वे सोचा करते थे कि किसी प्रकार महाराज तक अपनी पहुंच बनाई जाए । मगर ये आसान नहीं था । इसी अभिलाषा को लेकर उन्होंने राज-गुरु तक अपनी पहुंच बनाई और उनकी बहुत सेवा की, मगर राजगुरु भी अपने किस्म का अकेला ही घाघ था ।

वह तेनालीराम से अपने सारे काम करवा लेता, मगर राजमहल की बात आती तो टाल जाता । इससे तेनालीराम काफी उखड़ा हुआ था । वह उसकी फितरत समझ गया कि इसने कभी मुझे महाराज तक नहीं पहुंचने देना है । अत: एक दिन उसने उसे सबक सिखाने का मन बना लिया ।

एक बार राजगुरु नदी पर नहाने गया । किनारे पर जाकर उसने वस्त्र उतारे और पानी में उतर गया । तेनालीराम उसके पीछे-पीछे था । वह वृक्ष की ओट में छिप गया और जैसे ही राजगुरु ने नाक बंद करके पानी में गोता लगाया, वैसे ही उसने उसके कपड़े उठा लिए और जाकर पेड़ के पीछे छिप गया ।

कुछ देर बाद जब राजगुरु नहाकर किनारे की ओर बढ़ा तो अपने कपड़े वहां न पाकर ठिठक गया । ”अरे यह कौन है?” वह चिल्लाया: ”मेरे वस्त्र किसने उठाए हैं? ओह! रामलिंग…मैंने तुम्हें देख लिया है उस वृक्ष के पीछे…अरे भई मजाक छोड़ो और मेरे वस्त्र दो… देखो, मैं तुम्हें महाराज तक अवश्य पहुंचाऊंगा ।”

तेनालीराम का असली नाम रामलिंग ही था । बाद में अपनी ननिहाल तेनाली में होने के कारण वह तेनालीराम कहलाए क्योंकि बचपन से लेकर जवानी तक का उनका समय अपनी ननिहाल में ही बीता था । ”तुम झूठे हो राजगुरु! आज तक तुम मुझे झूठे दिलासे देते रहे हो ।” वह बाहर आ गया ।

”इस बार मैं पक्का वादा करता हूं ।” ”वादा करो कि तुम मुझे कंधे पर बैठाकर इसी समय राजमहल लेकर चलोगे ।” ”कंधे पर बैठाकर?” राजगुरु क्रोधित हो उठा: “तुम पागल तो नहीं हो गए रामलिंग ।” ”हां, तुम्हारे झूठे आश्वासन पा-पाकर पागल ही हो गया हूं । बोलो, मेरी शर्त मंजूर है तो बोलो, वरना मैं चला अपने रास्ते पर ।”

”अरे नहीं-नहीं-मुझे तुम्हारी शर्त मंजूर है ।” हथियार डालते हुए राजगुरु बोला: ”लाओ मेरे वस्त्र दो ।” तेनालीराम ने उसके वस्त्र दे दिए । राजगुरु ने बाहर आकर जल्दी-जल्दी वस्त्र पहने, फिर उसे अपने कंधों पर बैठाकर महल की ओर चल दिया ।

जब राजगुरु नगर में पहुंचा तो लोग यह विचित्र दृश्य देखकर हैरान रह गए । लड़के सीटियां और तालियां बजाते उनके पीछे-पीछे चलने लगे । चारों ओर शोर मच गया: ”राजगुरु का जुलूस-देखो राजगुरु का जुलूस ।” राजगुरु अपने आपको ऐसा अपमानित महसूस कर रहा था, जैसे भरे बाजार में वह नंगा चला जा रहा हो ।

धीरे-धीरे ये काफिला राजमहल के करीब पहुंच गया । महाराज अपने कक्ष में बैठे थे । शोर सुनकर वे बाहर बरामदे में आए फिर बुर्ज में आकर नीचे का नजारा देखने लगे । उन्होंने देखा कि राजगुरु एक व्यक्ति को कंधे पर उठाए लिए चले आ रहे हैं, लज्जा से उनका सिर झुका हुआ है और शरीर पसीने-पसीने हो रहा है । पीछे आते लोग उनका मजाक उड़ा रहे हैं और कंधे परं बैठा व्यक्ति हंस रहा है ।

राजगुरु का ऐसा अपमान देखकर महाराज को बेहद क्रोध आया । उन्होंने अपने दो अंगरक्षकों को आदेश दिया कि जो व्यक्ति दूसरे के कधों पर बैठा है, उसे नीचे गिरा दो और मुक्कों लातों से खूब पिटाई करके छोड़ दो । मगर दूसरे व्यक्ति को सम्मान सहित हमारे पास ले आओ ।

राजगुरु तो महाराज को नहीं देख पाया, मगर तेनालीराम ने देख लिया कि उनकी ओर इशारा करके महाराज अपने अंगरक्षकों से कुछ कह रहे हैं । बस तेनालीराम को समझते देर नहीं लगी कि दाल में कुछ काला है । वह झट राजगुरु के कंधे से उतरा और क्षमा मांगने लगा ।

क्षमा-याचना करके उसने राजगुरु को अपने कंधे पर उठा लिया और उनकी जय-जयकार करने लगा । तभी राजा के अंगरक्षक वहां आए । उन्होंने राजगुरु को तेनालीराम के कंधे से नीचे गिरा लिया और बुरी तरह उनकी पिटाई करने लगे । बेचारा राजगुरु पीड़ा अएएर अपमान से चीखने लगा । सैनिकों ने उसकी खूब पिटाई की, फिर तेनालीराम से बोले: ”आइए, आपको महाराज ने बुलाया है ।”

राजगुरु हैरान था कि यह सब क्या हुआ । अंगरक्षक तेनालीराम को लेकर महाराज के पास पहुंचे तो उसे देखकर महाराज भी बौखलाए: ”यह किसे ले आए । हमने कहा था कि ऊपर वाले की पिटाई करें और नीचे वाले को ले आएं ।” ”ये नीचे वाले ही हैं महाराज! वो पाजी इनके कंधों पर बैठा था ।”

”ओह! इसका मतलब यह व्यक्ति बहुत चालाक है । इसने पहले ही अंदाजा लगा लिया था कि क्या हो सकता है । इसे ले जाकर मौत के घाट उतार दो । इसने राजगुरु का अपमान किया है ।” क्रोधावेग में महाराज बोले जा रहे थे: ”और हां, इसके खून से सनी तलवार सरदार को दिखा देना ।”

उस समय तक वहां कुछ दरबारी भी आ गए थे । वे ऊपर से तो गंभीर थे, लेकिन मन ही मन में खुश हो रहे थे कि इस युवक ने राजगुरु की अच्छी दुर्गति की । जब सैनिक तेनालीराम को लेकर चले तो कुछ दरबारी खामोशी से उसके पीछे हो लिए । एक स्थान पर जाकर उन्होंने असली कारण पूछा तो उन्हें लगा कि तेनालीराम निर्दोष है ।

उसे किसी प्रकार राजदरबार में लाया जाए ताकि उन्हें राजगुरु और दूसरे बेइमान दरबारियों को सबक सिखाने का अवसर मिले । उन्होंने तेनालीराम से दोनों सैनिकों को दस-दस स्वर्ण मुद्राएं दिलवा कर और इस वादे के साथ उसे छुड़वा लिया कि वह शहर छोड़कर चला जाएगा ।

सिपाहियों ने तबेले में जाकर एक बकरे को हलाल करके अपनी खून से रंगी तलवारें सरदार को दिखा दीं । तेनालीराम को जहां जान बचने की खुशी थी, वहीं बीस स्वर्ण मुद्राओं के जाने का दुख भी था । मगर वह भी इस प्रकार चुप बैठने वाला नहीं था । उसने अपने घर जाकर अपनी मां और पत्नी को सिखा-पढ़ाकर महल में भेज दिया ।

दोनों सास-बहू महाराज के पास जाकर फूट-फूटकर रोने लगीं । ”क्या बात है ? तुम कौन हो और यहां आकर इस प्रकार क्यों रो रही हो ?” ”महाराज! एक छोटे से अपराध के, लिए आपने मेरे बेटे रामलिंग को मृत्युदण्ड दे दिया । उसके इस दुनिया से चले जाने के बाद अब मैं किसके सहारे जीऊंगी कौन होगा मेरे बुढ़ापेका सहारा ?” कहकर उसकी मां सिसक-सिसक कर रोने लगी ।

”और मेरे इन मासूम बच्चों का क्या होगा महाराज: मैं अबला इन बच्चों और इस बूढ़ी सास का पेट कैसे पालूंगी ।” महाराज को फौरन अपनी गलतीका एहसास हुआ कि उस छोटी सी भूल की उसे इतनी बड़ी सजा नहीं देनी चाहिए थी । अब हो भी क्या सकता था ।

उन्होंने आज्ञा दी : ”इन्हें हर माह दस स्वर्ण मुद्राएं दी जाएं जिससे ये अपना व बच्चों का पेट पाल सकें ।” दस स्वर्ण मुद्राएं तत्काल? लेकर दोनों सास-बहू घर पहुंचीं और तेनालीराम को पूरी बात बताई । तेनालीराम खूब हसा : “चलो, दस स्वर्ण मुद्राएं अगले माह मिल जाएंगी-हिसाब बराबर ।”

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *